Bharat ki Pramukh Anusoochit Janjatiyan

  • 0

Bharat ki Pramukh Anusoochit Janjatiyan

भारत की प्रमुख अनुसूचित जाति एवं जनजातियां-

अनुसूचित जाति-

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भारतीय समाज जाति पर आधारित समाज है जिसमें सबसे निम्न स्थान पर अस्पृश्य जातियों का वर्णन है इन पर अनेक प्रकार की सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक एवं धार्मिक पाबंदियां लगी हुई थी, इन्हें अछूत भी कहा जाता था, और इनके छूने से उच्च जातियों के व्यक्ति अपने को अपवित्र मानते थे और पुनः पवित्र होने के लिए सांस्कृतिक शुद्धि कराते थे, इन्हें बहिष्कृत जाति भी कहा जाता है| महात्मा गांधी जी के प्रयासों के फल स्वरुप इन्हें हरिजन कहा जाने लगा लेकिन बाद में इन लोगों के लिए संविधान में अनुसूचित जाति शब्द का प्रयोग किया जाने लगा|

जनजातियां-

जनजाति एक ऐसा क्षेत्रीय मानव समूह है जिसकी एक सामान्य भाषा, संस्कृति, राजनीतिक संगठन एवं व्यवसाय होता है, और जो सामान्यता अंतर्विवाह के नियमों का पालन करती है| भील एवं गोंड ऐसी ही दो जनजातियां हैं|
जनजातियों को जी एस घुरिए ने पिछड़े हिंदू कहा है|

डी एन मजूमदार के अनुसार– अस्पृश्यता वे जातियां हैं जो अनेक सामाजिक व राजनीतिक निर्योग्यताओं की शिकार है इनमें से अनेक निर्योग्यता उच्च जातियों द्वारा परंपरात्मक तौर पर निर्धारित और सामाजिक तौर पर लागू की गयीं|

पढ़िए 👉 भारत के प्रमुख धर्म

भारत की प्रमुख जन जातियाँ

राजस्थान – मीणा एवं भील |
मिजोरम– मिजो
आंध्र प्रदेश– कोय, गौंड,कोंडा – ढोरस , सुगालिस , येरुकुलास, येनाडिस |
मेघालय – खासी, गारो, जयंतिया|
कर्नाटक– मराठी, नैकडा, कोरगा, सोलिगारू, कुरुवा, हसलारू |
हिमांचल प्रदेश– भेट, पंगवाला, गुज्जर |
अरुणाचल प्रदेश– मिशमी, अबोर, डफला|

bharat ki pramukh janjatiyan

असम– राभा, मिकीर,कछारी, बोडो|
बिहार-संथाल, ओरांव , भूमिज, लोहारा, खरवार,खरिया|
गुजरात– भील, डबला, ढाका, कोकणा, नैकडा, डोढिया, चंधरि, गमीट |
ओडिसा – संथाल, गौंड, ओरांव, मुंड, खौंद, लोढा, कोल्हा,भूमिज,बथुड़ी, परेजा |
मध्य प्रदेश– भील, गौड़ , भिलासस, बंगा, सहारिया, कोल, ओरांव|
नागालैंड– नागा, डिमसा, कुकी|
त्रिपुरा-चकमा , त्रिपुरी, मग, नोतिया, रियांग,हल्ताम,जामितीय|
अंडमान और निकोबार– निकोबारी|
पश्चिम बंगाल– ओरांव, संथाल, भूमिज, कोरा, मुंड |
दादरा और नगर हवेली-कोमना, बरली|
मणिपुर– टोन्गखुल,थाडन, माओ |
तमिलनाडु – कटुनायकं, मलयाली,इरूलर |
महाराष्ट्र– ठाकर , गामित, कोवना, कथोड़ी, भील, गौड़ा|

यह भी पढ़िए 👉 भारत की प्रमुख नदियां और झीलें

महत्वपूर्ण बिंदु –

☑ मंडल कमीशन की रिपोर्ट पर आधारित पिछड़े वर्ग को 27% आरक्षण दिया गया|
☑ नागरिक अधिकार संरक्षण कानून 1956 ईसवी में बनाया गया|
☑ हरिजन सेवक संघ का मुख्यालय दिल्ली में है|
☑ वर्ष 2011 में अनुसूचित जनजातियों की कुल जनसंख्या 10.5 करोड़ अर्थात देश की कुल जनसंख्या का 8.2 प्रतिशत है |
☑ संस्कृतीकरण की अवधारणा एम एन श्रीनिवास द्वारा दी गई|

Share this with your friends--

Leave a Reply