तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की राजधानी

  • 0

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की राजधानी

तेलंगाना भारत के 29 राज्यों में से एक है और यह राज्य दक्षिण भारत में स्थित है। तेलंगाना 2 जून 2014 को आंध्र प्रदेश से अलग होकर भारत का सबसे नवीनतम राज्य बना| तेलंगाना राज्य का क्षेत्रफल लगभग 112,000 वर्ग किलोमीटर है और इस राज्य की जनसंख्या 2011 के आंकड़ों के अनुसार लगभग 3 करोड़ 50 लाख है| यह क्षेत्रफल और जनसंख्या दोनों के हिसाब से भारत के राज्यों में बारहवें स्थान पर है| आइये जानते हैं कि Telangana ki rajdhani ka naam kya hai?
तेलंगाना राज्य कि राजधानी का नाम हैदराबाद है| हैदराबाद शहर मूसी नदी के किनारे बसा हुआ है और इसकी जनसँख्या लगभग 67 लाख है और भारत में यह चौथा सबसे अधिक आबादी वाला शहर है| हैदराबाद शहर सन 1591 में मुहम्मद कुली कुतुब शाह द्वारा स्थापित किया गया था, कुतुब शाही राजवंश ने लगभग 100 साल तक इस शहर पर अपना प्रभुत्व कायम रखा फिर बाद में मुगल वंश के शासकों ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया था| बाद में सन 1724 में, मुगल वायसराय आसिफ याह ने इस शहर पर अपनी संप्रभुता की घोषणा की और अपना स्वयं का वंश बनाया, इस वंश को हैदराबाद के निजाम के रूप में जाना जाता है। मौजूदा समय में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना दोनों राज्यों की सामूहिक राजधानी हैदराबाद है| यहाँ एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है की हैदराबाद केवल 10 साल तक (यानी की 2024 तक) सामूहिक राजधानी रह सकती है अर्थात 10 साल के बाद आंध्र प्रदेश को अपनी राजधानी बदलनी पड़ेगी| हम आपको इस आर्टिकल में आगे बताएँगे की आंध्र प्रदेश की भावी राजधानी का नाम क्या है|

Telangana Andhra Pradesh ki rajdhani ka naam kya hai in hindi

जैसा की हमने ऊपर बताया है की आधिकारिक तौर पर हैदराबाद 2024 तक तेलंगाना और आंध्र प्रदेश दोनों राज्यों की राजधानी है, लेकिन आंध्र प्रदेश की भावी राजधानी अमरावती है, जिसका निर्माण विजयवाड़ा और गुंटूर के बीच किया जा रहा है। यहाँ हम आपको यह बता दें की राजधानी स्थानांतरण का कार्य शुरू हो गया है और बहुत सारे आधिकरिक कार्यालयों को स्थानांतरित करने का कार्य भी आरम्भ हो गया है| अमरावती को गुंटूर जिले में लगभग 217 वर्ग किमी खुले मैदान पर बनाया गया है और इसको 51% स्थान ग्रीन स्पेस (पर्यावरण) और 10% स्थान जल निकायों के निर्माण के लिए डिजाइन किया जा रहा है| इस शहर को सिंगापुर मॉडल पर तैयार किया जा रहा है, जिसमें सिंगापुर सरकार के द्वारा नियुक्त दो सलाहकार अपना पूरा सहयोग दे रहे हैं|

Share this with your friends--

Leave a Reply