Swami Vivekananda Biography in Hindi स्वामी विवेकानंद

  • 0
Swami Vivekananda biography in Hindi

Swami Vivekananda Biography in Hindi स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Biography in Hindi

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। नरेंद्रनाथ दत्ता, विश्वनाथ दत्ता और भुवनेश्वरी देवी के आठ बच्चों में से एक थे। उनके पिता विश्वनाथ समाज में काफी प्रभाव वाले एक सफल वकील थे। उनके परिवार का नाम दत्त था और उनके माता-पिता ने उन्हें नरेंद्रनाथ नाम दिया था| उनको नरेन नाम से पुकारा जाता था|

Swami Vivekananda Education Information in Hindi

उन्होंने अपनी पढ़ाई के दौरान पहले मेट्रोपॉलिटन संस्थान और बाद में कलकत्ता के प्रेसीडेंसी कॉलेज में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। वह एक बेहद बुद्धिमान व्यक्ति थे। इसके साथ ही साथ वह एक अच्छे गायक भी थे और वह कई वाद्य यंत्रों को बजाते थे| उन्होंने बहुत ही कम उम्र में अपनी उम्र के लड़कों के बीच नेतृत्व करने की एक महान शक्ति दिखाएं जिस कारण उनके अध्यापकों ने यह महसूस किया कि वह धरती पर अपनी एक अमिट छाप छोड़ने के लिए पैदा हुए हैं|

जब वे कॉलेज से स्नातक हुए, तब तक उन्होंने विभिन्न विषयों का एक विशाल ज्ञान प्राप्त कर लिया था। वह खेल, जिम्नास्टिक, कुश्ती और बॉडी बिल्डिंग में सक्रिय थे।

Swami Vivekananda biography in Hindi

More History of Swami Vivekananda in Hindi

नवंबर 1881 में, उन्हें एक ऐसे घर में गाने के लिए आमंत्रित किया गया, जहाँ रामकृष्ण अतिथि थे। उन्होंने रामकृष्ण जी से एक संक्षिप्त बातचीत की और इसके बाद रामकृष्ण ने उन्हें कलकत्ता से कुछ मील की दूरी पर गंगा पर बने दक्षिणेश्वर मंदिर में आने के लिए आमंत्रित किया| इसी स्थान पर रामकृष्ण जी रहते थे।
रामकृष्ण जी से मिलने के उपरांत उन्होंने रामकृष्ण जी के व्यक्तित्व के बारे में जाना| इसके बाद, नरेन दक्षिणेश्वर मंदिर में कई बार आने जाने लगे और उन्होंने खुद को अपनी ही उम्र के कई सारे युवा लड़कों के बीच में पाया, उन लड़कों को रामकृष्ण मठवासी जीवन का पालन करने के लिए प्रशिक्षित कर रहे थे।

1885 में रामकृष्ण को गले का कैंसर हो गया और यह स्पष्ट हो गया कि वह अब और ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रहेंगे| उस समय तक नरेन उनके काफी निकट अस्त हो गए थे और उनके युवा शिष्यों के नेता भी बन चुके थे|

15 अगस्त 1886 को, रामकृष्ण ने स्पष्ट स्वर में काली के नाम का उच्चारण किया और उनका निधन हो गया।

उनके शिष्यों ने एक साथ रहना उचित समझा और उन लोगों को बारनागौर में एक घर मिला जिसे वे अपने मठ के रूप में इस्तेमाल कर सकते थे|
धीरे सभी लड़के भिक्षु का जीवन जीने की ओर अग्रसर हुए, उनके हाथों में एक कटोरा होता था और उसी के साथ वे पूरे भारत के तीर्थ स्थलों पर जाकर उपदेश देते थे और भिक्षा मांगकर खाना खाते थे, और अपना जीवन झोपड़ियों में व्यतीत करते थे|

भिक्षुक की तरह का यह जीवन नरेन के लिए मूल्यवान थे, 1890-93 के वर्षों के दौरान उन्होंने भारत का पहला ज्ञान प्राप्त किया।

मई 1893 के अंत में वह बॉम्बे से हांगकांग और जापान के रास्ते वैंकूवर गए और 11 सितंबर, 1893 को आयोजित होने वाले धर्म संसद में शामिल होने के लिए वह ट्रेन से शिकागो गए।

यह शायद दुनिया के इतिहास में पहली बार था कि सभी प्रमुख धर्मों के प्रतिनिधियों को अपनी मान्यताओं को व्यक्त करने की स्वतंत्रता के साथ एक जगह लाया गया था। लेकिन स्वामीजी के पास प्रतिनिधि के रूप में संसद में शामिल होने का कोई औपचारिक निमंत्रण नहीं था। लेकिन हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जेएच राइट ने उन्हें आश्वासन दिया कि संसद में उनका स्वागत किया जाएगा

जब 11 सितंबर की सुबह संसद शुरू हुई तो वहां उपस्थित सभी ने एक आकर्षक रौब, पीली पगड़ी और खूबसूरत चेहरे को देखा|

दोपहर के समय, विवेकानंद उठे। अपनी गहरी आवाज़ में, उन्होंने अपना भाषण शुरू किया, उनके भाषण की सबसे पहली लाइन थी-“सिस्टर्स एंड ब्रदर्स ऑफ़ अमेरिका” – इस पहली लाइन को सुनते ही हजारों दर्शकों ने ताली बजाकर उनका अभिनंदन किया और उस समय उन लोगों ने पूरे दो मिनट तक बेतहाशा तालियां बजाईं।

जब विवेकानंद ने कहा, “सिस्टर्स एंड ब्रदर्स”, उनका वास्तव में मतलब था कि वह अमेरिकी महिलाओं और पुरुषों को अपनी बहनों और भाइयों के रूप में मानते है|
स्वामी विवेकानंद ने अपना भाषण जारी रखा। यह भाषण सार्वभौमिक सहनशीलता और सभी धर्मों के सामान्य आधार पर जोर देने की दलील देने वाला था। यह भाषण भले ही बहुत ही छोटा था परंतु जब यह खत्म हुआ तो तालियों की गड़गड़ाहट बहुत अधिक थी।
धर्म संसद के समापन के बाद, विवेकानंद ने पूर्वी और मध्य संयुक्त राज्य के विभिन्न हिस्सों में व्याख्यान देने में लगभग दो साल बिताए।

उन्होंने उस समय के कुछ महान व्यक्तियों जैसे कि रॉबर्ट, निकोला टेस्ला, मैडम कैलेव से मुलाकात की|
उन्होंने अपने श्रोताओं से कहा कि वे अपने भौतिकवाद का त्याग करें और हिंदुओं की प्राचीन आध्यात्मिकता से सीखें। उन्होंने पश्चिमी सभ्यता के कुछ महान गुणों को पहचाना और उनको लगता था कि इन दोनों की कमी भारतीयों में है|
विवेकानंद ने सिखाया कि ईश्वर हम में से हर एक के भीतर है, और हम में से प्रत्येक अपने स्वयं के ईश्वर-स्वभाव को फिर से परिभाषित करने के लिए पैदा हुआ है।

अगस्त में वह फ्रांस और इंग्लैंड के लिए रवाना हुए, और वेदांत का प्रचार किया, दिसंबर में स्वामी विवेकानंद न्यूयॉर्क लौट आए। यह तब था, अपने भक्तों के अनुरोध पर, उन्होंने अमेरिका में पहली वेदांत सोसायटी की स्थापना की: न्यूयॉर्क की वेदांत सोसायटी।

जनवरी 1897 के मध्य में विवेकानंद सीलोन गए। वहाँ से उन्होंने कलकत्ता की यात्रा की| 1 मई 1897 को, उन्होंने संगठित आधार पर अपना काम स्थापित करने के लिए कलकत्ता में रामकृष्ण के मठवासी और गृहस्थ शिष्यों की बैठक बुलाई। विवेकानंद ने जो प्रस्ताव दिया वह शैक्षिक, परोपकारी और धार्मिक गतिविधियों का एकीकरण था; और यह इस प्रकार था कि रामकृष्ण मिशन और रामकृष्ण मठ अस्तित्व में आए। यह मिशन तुरंत अपने काम पर लग गया और अकाल, प्लेग जैसी बीमारियों से ग्रसित लोगों को राहत पहुंचाने का कार्य करने लगा, इसके अलावा कई अस्पतालों और स्कूलों में भी इन लोगों ने कई तरह के कार्य किए|

जून 1899 में, विवेकानंद पश्चिमी दुनिया की दूसरी यात्रा के लिए रवाना हुए।

जब वे भारत लौटे, तब स्वामी विवेकानंद कई बीमारियों से ग्रसित हो गए थे और उन्होंने खुद कहा था कि उन्हें ज्यादा दिन जीने की उम्मीद नहीं है।
स्वामी विवेकानंद की मृत्यु 4 जुलाई 1902 को बेलूर के मठ में हुई थी|

विवेकानंद न केवल एक अंतरराष्ट्रीय संदेश वाहक थे बल्कि वह एक महान शिक्षक और एक महान देशभक्त थे, भारतवर्ष हमेशा उनका आभारी रहेगा|

Share this with your friends--

Leave a Reply