Penicillin Ki Khoj Kisne Ki thi

  • 0

Penicillin Ki Khoj Kisne Ki thi

पेनिसिलिन की खोज ने एंटीबायोटिक दवाओं का आविष्कार करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और यह दवाई प्रतिदिन हजारों लोगों का जीवन बचा रही है| पेनिसिलिन को पीसीएन (PCN) या पेन (pen) भी कहा जाता है| पेनिसिलिन एंटीबायोटिक दवाओं का एक समूह है जो पेनिसिलियम कवक (Penicillium fungi) से उत्पन्न होता है।

पेनिसिलिन की खोज किसने की?

पेंसिलीन की खोज का श्रेय सर अलेक्जेंडर फ्लेमिंग को जाता है| पेंसिलीन की खोज अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने 28 सितम्बर 1928 को को लंदन में की थी| फ्लेमिंग स्कॉटिश वैज्ञानिक थे और उन्हें अपनी खोज के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था| इस खोज से पहले निमोनिया, गोनोरिया जैसे कई संक्रमणों के लिए कोई प्रभावी उपचार नहीं था।

Penicillin Ki Khoj Kisne Ki thiPenicillin Ki Khoj Kisne Ki thi

फ्लेमिंग ने 7 मार्च, 1929 तक पेनिसिलिन को कोई औपचारिक नाम नहीं दिया था और उस समय तक वह पेनिसिलिन का पर्याप्त उत्पादन नहीं कर पा रहे थे जितना कि लोगों को इसकी आवश्यकता थी, फिर बाद में उन्होंने पेनिसिलिन पर किए गए अपने रिसर्च को प्रकाशित कर दिया|
1938 में, ऑक्सफोर्ड के पैथोलॉजिस्ट हावर्ड फ्लोरी ने अर्न्स्ट बोरिस चेन नामक एक जैव रसायनविद के साथ फ्लेमिंग के शोध पर अधिक विस्तार से काम किया और पेनिसिलिन के उपयोगों को असीम ऊंचाइयों प्रदान की| पेनिसिलिन के कई प्रकार हैं इनमें से कुछ Ampicillin, Phenoxy methyl penicillin और amoxicillin है।

Share this with your friends--

Leave a Reply

error: Content is protected !!