पाई की खोज किसने की?

  • 2

पाई की खोज किसने की?

दोस्तों इस आर्टिकल में आप पाई के बारे में कुछ रोचक जानकारियों से अवगत होंगे और साथ ही साथ यह जानेंगे की पाई की खोज किसने की थी?

पाई को हम π से निरूपित करते हैं और यह गणित में प्रयोग होने वाला एक नियतांक है| पाई (Pai) का संख्यात्मक मान किसी भी वृत्त की परिधि एवं उस वृत्त के व्यास के अनुपात के बराबर होता है। वृत्त के व्यास और परिधि के इस अनुपात के लिये π संकेत (symbol) का प्रयोग सर्वप्रथम विलियम जोन्स ने सन् 1706 में सुझाया। पाई (Pai) का मान लगभग 3.14159 के बराबर होता है और यह एक अपरिमेय राशि (Irrational Number) है। दशमलव के बाद की पूरी संख्या का अब तक आंकलन नहीं किया जा सका है इसलिए इसे अनंत माना जाता है।

pai ki khoj kisne aur kab ki thi

विद्यार्थियों के मन में हमेशा यह प्रश्न आता है की Pai ki khoj kisne ki thi? पाई की खोज के बारे में स्पष्ट रूप से उल्लेखों की कमी है परन्तु ऐसा माना जाता है की महान गणितज्ञ आर्यभट्ट ने पाई की खोज की थी| आर्यभट्ट ने ही इस संसार को ज़ीरो भी प्रदान किया था|

Share this with your friends--

2 Comments

Dr Gita Patel

November 6, 2017 at 12:31 pm

π ke shodhak mahan ganitagya aryabhatta hi the . Eska ullekh aryabhattiyam pustak me hai.
Sanskrit me usaka shlok bhi hai..”chaturadhikam…..vruttaparinah.

    admin

    November 7, 2017 at 1:14 am

    Thank you ma’am for valuable info 🙂

Leave a Reply