Khudiram Bose Biography in Hindi

  • 0
Khudiram Bose Biography in Hindi

Khudiram Bose Biography in Hindi

खुदीराम बोस की जीवनी

खुदीराम बोस भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सबसे युवा क्रांतिकारियों में से एक हैं, उन्हें 11 अगस्त, 1908 को फांसी पर लटका दिया गया था, और उस समय उनकी उम्र केवल 18 साल, आठ महीने और आठ दिन थी|

Khudiram Bose Biography in Hindi

Khudiram Bose Biography in Hindi

खुदीराम बोस का जन्म 3 दिसंबर, 1889 को मिदनापुर जिले के हबीबपुर गाँव में हुआ था। उनके पिता त्रिलोकीनाथ बोस थे। अपने बचपन में बहुत दुर्भाग्य से उन्होंने अपने माता-पिता को खो दिया। माता पिता की मृत्यु के पश्चात इनका पालन-पोषण इनकी बड़ी बहन ने किया|

Khudiram Bose Education-

खुदीराम बोस को पहले तामलुक के हैमिल्टन स्कूल में भर्ती कराया गया और शिक्षा पूरी करने के बाद उन्हें मिदनापुर कॉलेजिएट स्कूल में भर्ती कराया गया था। बचपन से ही वह क्रांतिकारियों के जीवन और उनके साथ शिकारियों से प्रेरित रहते थे| वह भारत की परतंत्रता को देखकर बहुत दुखी हुआ करते थे| उन्होंने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ एक मजबूत और कठोर मानसिकता बना रखी थी|

Khudiram Bose Information in Hindi

1906 में, जब खुदीराम ‘सोनार बंगला’ नामक एक क्रांतिकारी पत्रिका को वितरित करने में लगे हुए थे तब उन्हें ब्रिटिश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। वह किसी तरह उन्हें घायल करके उनके चंगुल से भागने में सफल रहे।उस समय उनकी उम्र बहुत ही कम थी अतः उन्हें इस अपराध के लिए बरी कर दिया गया था|
इस घटना के बाद वह चरमपंथी समूह में शामिल हो गए। 1907 में, मेलबैग लूटकर उन्होंने अपने समूह को उनकी गतिविधियों में बहुत मदद की।

उस समय के दौरान ब्रिटिश अधिकारी किंग्सफोर्ड अपनी शक्ति और अधिकार का दुरुपयोग करके कोलकाता के लोगों की स्वतंत्रता को कुचल रहा था। उसकी शक्ति के अन्यायपूर्ण और क्रूर अत्याचार से सभी लोग घबरा गए। इस पर क्रांतिकारियों ने उसे मारने का दृढ़ निर्णय लिया। लेकिन ब्रिटिश अधिकारियों को इस साजिश का पता चल गया और उन्होंने उनकी सुरक्षा के लिए उन्हें मुजफ्फरपुर भेज दिया। खुदीराम और प्रफुल्ल चाकी उसे मारने के कार्य को पूरा करने के लिए मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हुए।

Khudiram Bose Death History in Hindi

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में, 30 अप्रैल 1908 के दिन को सबसे महत्वपूर्ण और उल्लेखनीय दिन के रूप में चिह्नित किया गया। लगभग 8 बजे एक यूरोपीय दल यूरोपियन क्लब से लौट रहा था। खुदीराम बोस ने सोचा कि इस कार में किंग्सफोर्ड बैठे हुए हैं और उन्होंने उसे मारने के मकसद से उस कार पर बम फेंक दिया, लेकिन उस कार में किंग्सफोर्ड मौजूद नहीं था| इसके बजाय उस कार में दो यूरोपीय महिलाएं थीं, जो कि इस हमले में मारी गई| इस हमले के बाद खुदीराम बोस ने अपने आप को बचाने के लिए उस जगह से भाग निकले| उस समय तो उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई परंतु बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया| न्यायिक परीक्षण के बाद उन्हें दोषी साबित कर दिया गया और एक दोषी के रूप में उन्हें फांसी की सजा सुनाई गई। खुदीराम बोस को 11 अगस्त, 1908 को मृत्युदंड के रूप में फांसी पर लटका दिया गया|

Share this with your friends--

Leave a Reply