How to stay focused

  • 0

How to stay focused

नये साल की शुरुआत मे हम सबकी एक कामन (Common) सी आदत होती है- हम सभी कुछ संकल्प लेते हैं. आपने कौन से संकल्प लिए थे याद हैं 😛 और अगर याद भी हैं तो क्या आप सच मे उसको फॉलो (Follow) कर रहे हैं? ज़्यादातर लोग अपने संकल्प का त्याग कुछ ही दिनों में कर देते हैं और यदि आप भी उसमे से एक हैं तो यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. इस आर्टिकल मे हमने अपने लक्ष्या पे फोकस रहने के कई तरीकों का वर्णन किया है जो की आपको आपके लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायक होंगे-

फोकस क्या है (What is Focus)?

फोकस एक निरंतर अवधि (time period) के लिए, एक विशेष कार्य, वस्तु, या गतिविधि पर अपना ध्यान और ऊर्जा (Energy) केंद्र की क्षमता है।

अगर आपका फोकस किसी छोटे कार्य पे है तो यह थोड़ा आसान होता है जबकि लंबे या बड़े कार्य को पूर्ण करने में ज़्यादा मेहनत, समय, पॉज़िटिव थिंकिंग (Positive thinking) की ज़रूरत पड़ती है.

उदाहरण के तौर पे अगर आपने सोचा है की आप दो महीने मे एक या दो किलो वजन कम करेंगे तो यह आसान होगा लेकिन आपने यह निश्चय किया है की आपको IAS, SSC में सफलता पानी है तो यह थोड़ा मुश्किल है पर नमुनकीन नही, बस आपको सही दिशा मे, सही तरीके से, पॉज़िटिव थिंकिंग के साथ धीरे धीरे अपना कदम बढ़ाना है.
how to stay focused

Tips to focus on success-

कम गोल बनाएँ (Concentrate on 1-3 goals)-
एक समय मे 1-3 गोल निर्धारित करें इसके कई सारे फ़ायदे हैं- जैसे की आप अपने हर गोल्स पे बराबर समय दे सकेंगे और हर गोल को व्यवस्थित भी कर पाएँगे. अगर आपने एक साथ बहुत सारे लक्ष्य निर्धारित कर लिए तो आपका समय और तैयारी बँट जाएगी.

अपना आत्मविश्वश बनाए रखें (Believe you will succeed)– किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने में सबसे ज़्यादा ज़रूरी बात यही है की आपको अपने आप पे विश्वास होना चाहिए की हाँ मैं ये कर सकता हूँ (Yes I can do it). कभी कभी असफालताएँ आती हैं लेकिन उनसे कुछ सीख ले के आगे बढ़ना चाहिए.

Download IBPS PO previous year Question papers with Answers in PDF

Create milestones-
आप अपने लक्ष्य को टुकड़ों मे बाँटे और उसे समयानुसार पूरा करें, जैसे की मुझे एक महीने में ये सिलेबस पूरा करना है तो करना है.

अपने लक्ष्य के हिसाब से प्लान बनाएँ-
आपका हर प्लान आपके लक्ष्य के हिसाब से होना चाहिए, और उसी अनुसार उस प्लान को फॉलो करना है तब तक जब तक आपको आपका लक्ष्य मिल नही जाता.

अपने परिणाम की जाँच करते रहें-
आपने जो प्लान बनाया है उसके हिसाब से आपकी तैयारी कहाँ तक पहुँची इसका मूल्यांकन बहुत ज़रूरी है, हमेशा अपनी तैयारी को परखते रहें- मॉक टेस्ट, ग्रूप डिस्कशन, पिछले साल के पेपर को हल कर के आप अपने आपका मूल्यांकन कर सकते हैं और याद रखिए की – आपका मूल्यांकन आपसे बेहतर कोई नही कर सकता.

इन सबके अतिरिक्त एक बात जो की आपको हमेशा अपने आप से पूंछना चाहिए – “जो मैं कर रहा हूँ या जितना मैने किया, क्या वो मुझे सफल बनाने के लिए पर्याप्त है?”

Like us on Facebook

Share this with your friends--

Leave a Reply