प्रोकैरियोटिक कोशिका किसे कहते हैं? कार्य, प्रकार, विशेषताएं

प्रोकैरियोटिक कोशिका किसे कहते हैं?

प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं वे कोशिकाएं हैं जो एककोशिकीय जीवों का निर्माण करती हैं जिन्हें हम बैक्टीरिया और आर्किया के रूप में जानते हैं।

प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं हमारे वातावरण में बहुत आम हैं और  यह सभी पारिस्थितिक तंत्रों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

प्रत्येक प्रोकैरियोटिक कोशिका एक पूर्ण जीव बनाती है, हालांकि उन से बने हुए जीव इतने छोटे होते हैं कि हम उन्हें अपने साधारण आंखों से नहीं देख सकते हैं|

प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं की मुख्य विशेषता यह है कि उनके पास एक कोशिका झिल्ली नहीं होती है, जो नाभिक को सीमांकित करती है|

"प्रोकैरियोट" शब्द ग्रीक मूल प्रो से निकला है, जिसका अर्थ "पहले" होता है, और कैरियोन का अर्थ "नाभिक" होता है।

[ जानिए- मोनेरा जगत क्या है?]

प्रोकैरियोटिक कोशिकाएँ कहाँ पाई जाती हैं?

प्रोकैरियोटिक कोशिका हमारी पृथ्वी पर उपस्थित लगभग सभी पारिस्थितिक तंत्रों में उपस्थित हैं| उदाहरण के लिए यह कोशिकाएं: हिमनदों में, झरनों में, ज्वालामुखी में भूमि आदि हर जगह पर उपस्थित हैं।

हमारी त्वचा पर, हमारे पेट के अंदर और मुंह के अंदर, फलों तथा सब्जियों में, पानी में हर जगह पर कहीं ना कहीं प्रोकैरियोटिक जीव उपस्थित होते हैं|

कुछ प्रोकैरियोटिक जीव मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होते हैं जबकि कुछ अन्य मानव जीवन के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं|

[ पढ़िए- प्रकाश संश्लेषण और श्वसन में क्या अंतर है? ]

प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं की विशेषताएं

प्रोकैरियोटिक कोशिका यूकैरियोटिक कोशिका की तुलना में सरल होती है और इनमें कई प्रकार की विशेषताएं भी पाई जाती है|

प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं की प्रमुख विशेषताएं और उनके लक्षण निम्नलिखित हैं-

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं का आकार यूकैरियोटिक कोशिकाओं से बहुत छोटा होता है| 

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं की सबसे प्रमुख विशेषता यह है कि इन कोशिकाओं में नाभिक नहीं होता है।

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं में एक अनियमित आकार का क्षेत्र पाया जाता है, जिसमें डीएनए होता है, और इसे न्यूक्लियॉइड कहलाता है।

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं का प्रजनन विशेष रूप से अलैंगिक होता है|

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं से बने जीव एककोशिकीय जीव होते हैं, ये जीव भोजन करते हैं, बढ़ते हैं, प्रजनन आदि क्रियाएं करते हैं|

यह भी जानिए 👉 पुष्प की संरचना

प्रोकैरियोटिक कोशिका के भाग और उनके कार्य

प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं, यूकेरियोटिक कोशिकाओं की तुलना में बहुत सरल होती हैं और इनमें कई अलग-अलग भाग होते हैं, जिनका उपयोग विशेष उद्देश्य और कार्य के लिए किया जाता है।

प्रोकैरियोटिक कोशिका के प्रमुख भाग और उनके कार्य निम्नलिखित हैं- 

प्लाज्मा झिल्ली 

यह वह सीमा होती है जो कोशिका के आंतरिक और बाहरी भाग को एक दूसरे से विभाजित करती है| यह पदार्थों के प्रवेश और बाहर निकलने में एक फिल्टर के रूप में कार्य करती है, जैसेकि पोषक तत्वों का प्रवेश या अपशिष्ट का निकास।

कोशिका भित्ति

इसमें कोशिका झिल्ली के बाहर एक सख्त, कठोर परत होती है, जो कोशिका को एक परिभाषित आकार और सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत देती है।

कोशिका भित्ति की उपस्थिति पौधों, शैवाल और कवक के बीच साझा किया जाने वाला एक लक्षण है, हालांकि जीवों के इन समूहों में से प्रत्येक में कोशिका भित्ति की संरचना भिन्न होती है।

कोशिका द्रव्य

कोशिका द्रव्य एक कोलाइडल पदार्थ है, जो कोशिकीय "शरीर" को बनाता है और कोशिका के अंदर पाया जाता है।

राइबोसोम

राइबोसोम प्रोटीन और आरएनए के टुकड़े हैं जो आनुवंशिक जानकारी की अभिव्यक्ति और अनुवाद की अनुमति देते हैं| वे डीएनए में निर्धारित विभिन्न जैविक प्रक्रियाओं में कोशिका द्वारा आवश्यक प्रोटीन को संश्लेषित करते हैं।

प्रोकैरियोटिक डिब्बे

प्रोकैरियोटिक डिब्बे जीव के प्रकार के अनुसार भिन्न-भिन्न होते हैं। कुछ उदाहरण हैं: क्लोरोसोम (प्रकाश संश्लेषण के लिए आवश्यक), कार्बोक्सीसोम ( कार्बन डाइऑक्साइड को ठीक करने के लिए) आदि।

पेरिप्लाज्म

यह एक ऐसा स्थान है जो साइटोप्लाज्म को घेरता है और इसे बाहरी झिल्लियों से अलग करता है, जो विभिन्न प्रकार के ऊर्जा विनिमय में अधिक प्रभावशीलता की अनुमति देता है।

इसके अलावा, ये कोशिकाएँ अन्य संरचनाएँ प्रस्तुत कर सकती हैं जैसे:

  • फ्लैगेलम
  • कैप्सूल
  • पेरिप्लाज्म
  • प्लास्मिड

यह भी जानिए 👉 परागण किसे कहते हैं?

प्रोकैरियोटिक कोशिका के प्रकार

यह कोशिकाएं बहुत ही परिवर्तनशील होती हैं| प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं में कई प्रकार के आकार हो सकते हैं और अक्सर एक ही प्रजाति के जीव भी अलग-अलग आकार के हो सकते हैं|

हालांकि प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं को मुख्यतः दो प्रकार में विभाजित किया जा सकता है- कोकोस, बेसिली|

कोकोस

कोकस वे जीव होते हैं जिनकी कोशिकाएँ गोलाकार होती हैं, उदाहरण के लिए, अंगूर के एक गुच्छा के समान|  इस प्रकार के जीव हमारे आसपास के वातावरण में बहुत ही प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं| 

बेसिली

बेसिली वे जीव होते हैं जो गोल सिरों के साथ रॉड के आकार के होते हैं| यह अलग-अलग प्रजातियों में अलग-अलग आकार और आकृतियों के हो सकते हैं|

यह भी जानिए 👉 पादप कोशिका और जंतु कोशिका में अंतर

प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं के उदाहरण

प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं के कुछ प्रमुख उदाहरण निम्नलिखित हैं-

जीवाणु कोशिकाएं

ये एककोशिकीय जीव हैं जो पृथ्वी पर मिट्टी से लेकर मानव शरीर तक हर जगह पाए जाते हैं। उनके पास विभिन्न आकार और संरचनाएं होती हैं। बैक्टीरिया में कुछ अनूठी संरचनाएं होती हैं जैसे कि पिली, फ्लैगेला और कैप्सूल।

आर्किया कोशिकाएं

आर्कबैक्टीरिया एककोशिकीय जीव हैं जो आकार और आकार में बैक्टीरिया के समान होते हैं।


Related Articales

Logo

Download Our App (1Mb Only)
To get FREE PDF & Materials

Download