क्लोरोफिल क्या होता है? फायदे, प्रकार Chlorophyll in Hindi

Chlorophyll in Hindi- पर्णहरित, हरितलवक, पर्ण हरिम

हम सभी ने क्लोरोफिल के बारे में जरूर ही सुना होगा। वास्तव में, यह शब्द बहुत व्यापक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तव में क्लोरोफिल क्या होता है? यह कितने प्रकार का होता है? और क्लोरोफिल के फायदे क्या हैं?

इस लेख में हम इन सबकी जानकारी प्राप्त करेंगे, और साथ ही साथ क्लोरोफिल की विशेषताओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे।

क्लोरोफिल की खोज किसने की?

क्लोरोफिल नाम दो ग्रीक शब्दों से लिया गया है: क्लोरोस (Chloros-हरा) और फाइलन (phyllon-पत्ती)। इसे पहली बार 1817 में फ्रांसीसी रसायनज्ञ जोसेफ कैवेंटो और पियरे-जोसेफ पेलेटियर द्वारा अलग किया गया था। अर्थात हम यह कह सकते हैं कि जोसेफ कैवेंटो (Joseph Caventou) और पियरे-जोसेफ पेलेटियर (Pierre-Joseph Pelletier) ने क्लोरोफिल कि खोज की थी।

[ जानिए- माइटोकॉन्ड्रिया की खोज किसने की? ]

क्लोरोफिल क्या होता है? परिभाषा

क्लोरोफिल वास्तव में वर्णक (Pigment) का एक पूरा परिवार है, जो पौधों को उनका विशिष्ट हरा रंग देता है।

क्लोरोफिल हमारे पृथ्वी ग्रह पर जीवन के चक्र में एक आवश्यक एवं महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि क्लोरोफिल के बिना पौधों और अन्य जीवित प्राणियों द्वारा प्रकाश संश्लेषण करना संभव नहीं होगा।

क्लोरोफिल एक हरा यौगिक है, जो पौधों की पत्तियों और हरे तनों में पाया जाता है। प्रारंभ में, यह माना गया था कि क्लोरोफिल एक एकल यौगिक होता है, लेकिन 1864 में स्टोक्स ने स्पेक्ट्रोस्कोपी द्वारा दिखाया कि क्लोरोफिल एक मिश्रण होता है।

अगर आपसे यह पूंछा जाये की क्लोरोफिल कहाँ पाया जाता है? तो इसका उत्तर है कि क्लोरोफिल पौधों, शैवाल और कुछ प्रकार के जीवाणुओं में पाया जा सकता है।

चिकित्सा जगत में क्लोरोफिल का बहुत ही महत्व है, और इसके कारण कई अन्य पदार्थों जैसे कि कुनैन और कैफीन को विकसित करना संभव हो सका।

क्लोरोफिल, हाइड्रोजन और कार्बन से बना होता है, जिसके केंद्र में एक मैग्नीशियम परमाणु होता है। क्लोरोफिल नीले और लाल रंग को अवशोषित करता है, और इसलिए यह हरे रंग का होता है। इसका हरा रंग उन सभी सजीवों में हमें दिखाई पड़ता है जिनमें यह उपस्थित होता है।

दूसरे शब्दों में, यह कहा जा सकता है कि जिस हरे रंग को हम आमतौर पर प्रकृति (हरियाली) से जोड़ते हैं, वह क्लोरोफिल के कारण ही होता है। इसे हम क्लोरोफिल के फायदे के रूप में चिन्हित कर सकते हैं।

अधिकांश पौधों को क्लोरोफिल का उत्पादन करने के लिए गर्म तापमान और अच्छी धूप की आवश्यकता होती है।

यही कारण है कि, जब ठंड के मौसम आते हैं और पौधे अस्थायी रूप से क्लोरोफिल का उत्पादन काम कर देते हैं, इस कारण से पौधे (पत्तियां) अपना हरा खो देते हैं।

क्यूंकि पौधों में कई अन्य रंग मौजूद होते हैं, अतः हरा रंग खोने के कारण हमें वे रंग दिखाई देने लगते हैं। जैसे की आपने देखा होगा की पत्तियों का रंग हरे से बदलकर गेरुआ, नारंगी या भूरे रंग का हो जाता है।

यह भी जानें- पादप कोशिका क्या होती है?

क्लोरोफिल के फायदे क्या हैं? Chlorophyll ke fayde

क्लोरोप्लास्ट, क्लोरोफिल से सम्बंधित होता है और इसी क्लोरोप्लास्ट के कारण जीव और पौधे प्रकाश संश्लेषण करने में सक्षम होते हैं। प्रकाश संश्लेषण के कारण ही पौधे,  प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलने में सक्षम हो पाते हैं।

क्लोरोफिल के कारण ही पौधे सूर्य की ऊर्जा को संग्रहीत कर पाते हैं। प्रकाश संश्लेषण के कारण ही पौधे, पानी और कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन और कार्बोहाइड्रेट में बदल सकते हैं। दूसरे शब्दों में, यह पौधों को सांस लेने और महत्वपूर्ण ऊर्जा प्राप्त करने की अनुमति देता है।

यह भी जानें- परागण किसे कहते हैं?

क्लोरोफिल कितने प्रकार के होते हैं?

क्लोरोफिल केवल एक ही प्रकार का नहीं हो सकता है, क्योंकि यह वर्णकों का एक परिवार है। अर्थात यह कई प्रकार का हो सकता है। क्लोरोफिल के प्रकार निम्नलिखित हैं-

क्लोरोफिल ए | Chlorophyll A

प्रकाश संश्लेषण करने में सक्षम सभी प्रकार के जीवों में क्लोरोफिल ए होता है। यह शैवाल और पौधों  में प्रमुख रूप से पाया जाता है। 

क्लोरोफिल ए, क्लोरोप्लास्ट में मौजूद होता है, और यह प्रकाश को अवशोषित करता है, जिसके कारण सौर ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदला जाता है। 

क्लोरोफिल बी | Chlorophyll B

क्लोरोफिल बी का रंग भी हरा होता है। क्लोरोफिल बी का कार्य, क्लोरोफिल ए की प्रकाश अवशोषण क्षमता को बढ़ाना है। क्लोरोफिल बी शैवाल और पेड़ों में पाया जाता है।

क्लोरोफिल सी | Chlorophyll C

इस प्रकार का क्लोरोफिल शैवाल की कुछ श्रेणियों में पाया जाता है। यह लाल-भूरे रंग का होता है|

क्लोरोफिल सी का कार्य क्लोरोफिल बी के समान होता है, जिसमें यह क्लोरोफिल ए को सूर्य के प्रकाश को अवशोषित करने में मदद करता है, लेकिन यह केवल प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया की शुरुआत में मौजूद होता है।

क्लोरोफिल डी | Chlorophyll D

यह लाल स्पेक्ट्रम के प्रकाश का शोषण करने में सक्षम होता है। इसकी उपस्थिति बहुत ही कम सजीवों में देखी गयी है। 

क्लोरोफिल एफ | Chlorophyll F

2010 में, मिन चेन की टीम ने एक नए प्रकार के क्लोरोफिल की थी, उन्होंने क्लोरोफिल एफ की खोज प्रकाशित भी की। यह ऑस्ट्रेलिया में स्ट्रोमेटोलाइट्स में मौजूद एक साइनोबैक्टीरियम में खोजा गया था।

यह भी जानें- पादप कोशिका और जंतु कोशिका में अंतर , Koshika kya hoti hai?


Related Articales

Logo

Download Our App (1Mb Only)
To get FREE PDF & Materials

Download