जयप्रकाश भारती | Jai Prakash Bharti Essay In Hindi

  • 0

जयप्रकाश भारती | Jai Prakash Bharti Essay In Hindi

हिन्दी के प्रख्यात लेखक जयप्रकाश भारती जी ने हिन्दी बाल साहित्य पर महत्त्वपूर्ण कार्य किया। और भारती जी को हिन्दी बाल-साहित्य का युग निर्माता कहा जाता है और वह नन्दन के पूर्व सम्पादक थे।

जयप्रकाश भारती का जीवन परिचय-

श्री जयप्रकाश भारती जी का जन्म 2 जनवरी सन 1936 ईसवीं को हुआ था| उनका जन्म उत्तर प्रदेश के मेरठ नगर के एक मध्यमवर्गीय प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था, इनके पिता का नाम श्री रघुनाथ सहाय था और वह मेरठ के प्रसिद्ध वकील थे|

Jai Prakash Bharti Biography In Hindi
Jai Prakash Bharti Essay Biography In Hindi

पढ़ें Jaishankar Prasad Essay and Biography in Hindi
पढ़ें Mahadevi Varma ka Jivan Parichay

भारती जी की शिक्षा-

भारती जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मेरठ में ही प्राप्त की और वहीं से आपने बी एस-सी की परीक्षा उत्तीर्ण की| बी एस-सी, एम ए, साहित्यरत्न की परीक्षाएँ उतीर्ण की और आपने पत्रकारिता एवं अन्य विषयों में डिप्लोमा प्राप्त किया था| आप बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि के थे और आप ने छात्र जीवन से ही समाज सेवा का कार्य प्रारंभ कर दिया था| समाजसेवा के कार्यों को करते हुए आपने कई समाज सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि का भी कार्य किया| आप ने शिक्षा के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान दिया और कई वर्षों तक शिक्षा एवं साक्षरता का प्रसार आपने मेरठ में किया| आपने कई रात्रि पाठशालाओं का निशुल्क संचालन किया|

पढ़ें Surdas Ji Ki Jivani
पढ़ें तुलसीदास जी की जीवनी

भारती जी की मृत्यु-

आपने संपूर्ण जीवन हिंदी बाल साहित्य मैं अतुलनीय योगदान दिया और हिंदी साहित्य की साधना की और साहित्य जगत में आपका योगदान अविस्मरणीय रहेगा| जयप्रकाश भारती जी की मृत्यु 5 फरवरी 2005 को हुई थी|

पढ़िए 👉 मुंशी प्रेमचंद जी का जीवन परिचय

रचनाएं-

आपकी मौलिक रचनाओं में ‘हिमालय की पुकार’, ‘अनंत आकाश: अथाह सागर’ का नाम अग्रणी है और यह दोनों पुस्तकें यूनेस्को द्वारा पुरस्कृत हैं| इस साथ-साथ जय प्रकाश भारती जी ने हिंदी साहित्य को विज्ञान की विभूतियां, हमारे गौरव के प्रतीक, सरदार भगत सिंह, अस्त्र शस्त्र, उनका बचपन यू बीता, आदिम युग से अणु युग तक, ऐसे थे हमारे बापू, देश हमारा चलो चांद पर चलें, लोकमान्य तिलक, बर्फ की गुड़िया, संयुक्त राष्ट्र संघ, दुनिया रंग बिरंगी, भारत का संविधान जैसी कई रचनाएं प्रदान की|

Share this with your friends--

Leave a Reply