Dharamvir Bharati Biography in Hindi धर्मवीर भारती का ‎जीवन परिचय

  • 0

Dharamvir Bharati Biography in Hindi धर्मवीर भारती का ‎जीवन परिचय

धर्मवीर भारती जी हिंदी साहित्य संसार की एक प्रतिभाशाली कवि, नाटककार एवं कथाकार थे| आपने इस संसार को कई अनमोल कविताएं, नाटक हास्य काव्य संग्रह प्रदान किया है|

Life History (Biography) of Dharamvir Bharati in Hindi-

धर्मवीर भारती का ‎जीवन परिचय-
धर्मवीर भारती का जन्म 25 दिसंबर 1926 को इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) में हुआ था|आपके पिता का नाम चिरंजीव लाल वर्मा एवं आपकी माता का नाम श्रीमती चंदा देवी था| भारती जी की पहली पत्नी का नाम कांता भारती एवं दूसरी पत्नी का नाम पुष्पा भारती था| प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण करने के उपरांत आपने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और इलाहाबाद विश्वविद्यालय से आपने एम ए की परीक्षा उत्तीर्ण की, तत्पश्चात आपने पीएचडी की उपाधि ग्रहण की| धर्मवीर भारती जी ने इलाहाबाद से प्रकाशित होने वाले पत्र “संगम” का संपादन किया था| आपने कुछ समय तक अध्यापन का कार्य भी किया था, धर्मवीर भारती जी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के प्राध्यापक पद को सुशोभित किया था| 1959 से 1987 तक भारती जी ने मुंबई (महाराष्ट्र) से संपादित होने वाले साप्ताहिक पत्र “धर्मयुग” का संपादन किया था|भारत सरकार ने आपको सन 1972 ईस्वी में “पद्मश्री” की उपाधि से अलंकृत किया था| सन 1989 में आपको ‘संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार’, ‘राजेंद्र प्रसाद सम्मान’ एवं ‘भारत भारती सम्मान’ से अलंकृत किया गया था |
हिंदी साहित्य जगत को कई अभूतपूर्व कविताएं, नाटक आदि प्रदान करने वाले कवि एवं लेखक धर्मवीर भारती जी की मृत्यु 4 सितंबर 1997 को मुंबई में हुई|

पढ़िए 👉 सूरदास की जीवनी

Important Point- “गुनाहों का देवता” (Gunahon Ka Devta) उपन्यास किसने लिखा था?- धर्मवीर भारती

Dharamvir Bharati biography essay in hindi

More Information about Dharamvir Bharati in Hindi-

धर्मवीर भारती जी के प्रतिभाशाली कवि, उपन्यासकार, कथाकार एवं नाटककार थे| आपकी कविताओं में रामतत्व की रमणीयता के साथ साथ बौद्धिक उत्कर्ष के दर्शन भी होते हैं| भारती जी के आलोचक उन्हें प्रेम और रोमांस के रचनाकार की संज्ञा दी है| आपने तत्कालीन समाज का बड़े ही नजदीकी पुनरीक्षण किया है और आपने उस समय की सामाजिक समस्याओं को उठाते हुए उनका बड़ा ही मार्मिक एवं जीवंत चित्रण जनमानस के सामने प्रस्तुत किया है| आपने एक कवि एवं लेखक के रूप में कहानी, उपन्यास, निबंध, एकांकी, नाटक, आलोचना, संपादन एवं अन्य कई विधाओं में अपनी विलक्षण प्रतिभा का परिचय दिया है| आपके उपन्यासों में “गुनाहों का देवता” उपन्यास का स्थान अग्रणी एवं सर्वोपरि है| इस उपन्यास पर आधारित भारतीय सिनेमा जगत में एक फिल्म की बनी थी|

पढ़िए 👉 तुलसीदास का जीवन परिचय
पढ़िए 👉 मीराबाई की जीवनी

Share this with your friends--

Leave a Reply