Internet ka Aviskar kisne kiya in Hindi

  • 0

Internet ka Aviskar kisne kiya in Hindi

दोस्तों इस आर्टिकल में हम इंटरनेट क्या है और इसका अविष्कार किसने और कब किया था? से सम्बंधित तथ्यों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे|

इंटरनेट क्या है?

What is internet- वस्तुतः इंटरनेट अनेक भिन्न-भिन्न नेटवर्क्स का एक ऐसा नेटवर्क है जिसमें प्रत्येक नेटवर्क एक ऐसे माध्यम से जुड़ा हुआ होता है जो कि अन्य नेटवर्क से सूचनाओं एवं आंकड़ों का आदान प्रदान करता है| वर्तमान समय में इंटरनेट पूरे विश्व में फैला हुआ है और यह बहुत ही तीव्र गति से विकसित हो रहा है इंटरनेट का सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि इंटरनेट पर किसी का भी स्वामित्व नहीं है| इंटरनेट एक सार्वजनिक सुविधा है जो दुनियाभर में लाखों लोगों के लिए उपलब्ध है। इंटरनेट एक विश्वव्यापी कनेक्टेड नेटवर्क सिस्टम (Globally Connected Network System) है जो विभिन्न प्रकार के मीडिया के माध्यम से डेटा संचारित करने के लिए टीसीपी / आईपी (TCP/IP) का उपयोग करता है।

internet ka aviskar kisne kiya in hindi language

इंटरनेट का आविष्कार किसने किया था?

Internet ka Aviskar Kisne kiya in Hindi- इंटरनेट का आविष्कार किसी एक व्यक्ति ने नहीं किया यह एक ऐसा प्रयास था जिसमें कई व्यक्तियों ने अपना अपना सहयोग प्रदान किया परन्तु अगर यह प्रश्न पूंछा जाये की इंटरनेट की खोज किसने की? तो इसके उत्तर में विन्ट सर्फ़ (Vint Cerf) और रोबर्ट एलियट कॉन (Robert Elliot Kahn) का नाम आता है|

Vint Serf 👇 👇

internet ka aviskar kab hua

Robert Elliot Kahn 👇 👇

internet ka aviskar kisne kiya in hindi

इंटरनेट के बारे में सर्वप्रथम विचार संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया में 1960 के अंत में किया गया था।

इंटरनेट के प्रारंभिक विचार का श्रेय लाईनार्ड क्लेनरॉक (Leonard Kleinrock) को दिया गया जब उन्होने अपना पहला पेपर 31 मई, 1961 को “सूचना प्रवाह में बड़ा संचार नेट” (Information Flow in Large Communication Nets) प्रकाशित किया।
1962 में, जे.सी.आर. लिकलैडर (J. C. R. Licklider) आईपीटीओ (IPTO – Information Processing Technology Office) के पहले निदेशक बन गए और एक गैलेक्टिक नेटवर्क के बारे में उन्होंने अपनी राय व्यक्त की| इसके अलावा, लिक्लाइडर और क्लेनरॉक के विचारों को साथ में रखकर रॉबर्ट टेलर ने एक नेटवर्क को बनाने में अपने विचार प्रस्तुत किये और यही विचार बाद में ARPANET (Advanced Research Projects Agency Network ) बन गए|

ARPANET के बनने के बाद कई साइंटिस्ट्स और कई ऑर्गनाइजेसन्स (Organizations) ने मिलकर इंटरनेट को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई| एक के बाद एक कई अविष्कारों के बाद अंततः इंटरनेट का प्रसारण हुआ|

विन्ट सर्फ़ (Vint Cerf ) को व्यापक रूप से “इंटरनेट का पिता” के रूप में जाना जाता है, वे टीसीपी / आईपी प्रोटोकॉल के सह-डिजाइनर (co-designer) और इंटरनेट के आर्किटेक्चर के रूप में जाने जाते हैं। दिसंबर 1997 में, राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने विन्ट सर्फ़ और उनके सहयोगी रॉबर्ट ई कान ((Robert Elliot Kahn )) को इंटरनेट की स्थापना और विकास के लिए यूएस नेशनल मेडल ऑफ टेक्नोलॉजी (U.S. National Medal of Technology) प्रदान किया था|

Share this with your friends--

Leave a Reply