History in Hindi Language

  • 0
Ahmad Shah Abdali History in Hindi

Ahmad Shah Abdali History in Hindi अहमदशाह अब्दाली

History of Ahmad Shah Abdali in Hindi

अहमदशाह अब्दाली को अहमदशाह दुर्रानी भी कहते हैं। अब्दाली का जन्म 1722 में हुआ था| अहमद शाह अब्दाली के पिता का नाम

“Read More”

  • 0
Naram Dal aur Garam Dal History in Hindi

Naram Dal aur Garam Dal History in Hindi

Naram Dal aur Garam Dal History in Hindi

नरम दल और गरम दल का इतिहास-

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना 28 दिसंबर 1885 को हुई थी| इसके गठन के कुछ वर्षों पश्चात इस पार्टी के सदस्यों में वैचारिक मतभेद उत्पन्न होना प्रारंभ हो गए और

“Read More”

  • 0
bhartiya rashtriya congress ke pratham adhyaksh

Bhartiya Rashtriya Congress History in Hindi भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अपनी तरह की दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने राजनीतिक दलों में से एक है| शुरुआती दिनों में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी का गठन ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता की मांग के लिए नहीं किया गया था, बल्कि

“Read More”

  • 0
Vijay Nagar Samrajya History in Hindi

Vijay Nagar Samrajya History in Hindi विजयनगर साम्राज्य का इतिहास

विजयनगर का शाब्दिक अर्थ है- ‘जीत का शहर‘। इस नगर को मध्ययुग का प्रथम हिन्दू साम्राज्य माना जाता है। हम्पी के मंदिरों और महलों के खंडहरों को देखकर जाना जा सकता है कि यह कितना भव्य रहा होगा। इसे

“Read More”


  • 0

इंदिरा गाँधी Indira Gandhi Biography and History in Hindi

इंदिरा गाँधी ने 1966 से 1977 तक और 1980 से 1984 तक प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। इंदिरा गाँधी अपने कार्यकाल में बहुत ही सख्त निर्णय लेने के रूप में जानी जाती हैं, और साथ ही साथ उनका राजनीतिक करियर कई विवादों के साथ भी घिरा रहा|

“Read More”


  • 0
Nana Sahib Biography History in Hindi Language

नाना साहिब Nana Sahib Biography in Hindi

Nana Sahib in Hindi-

झांसी की रानी लक्ष्मी बाई और तात्या टोपे के साथ नाना साहेब को 1857 की क्रांति के प्रमुख योद्धाओं के रूप में जाना जाता है| नाना साहिब ने

“Read More”


  • 0
Pitts India Act 1784 in Hindi

Pitt’s India Act 1784 in Hindi पिट्स इंडिया एक्ट

जैसा की हम सभी जानते हैं कि 1773 ईसवी में रेग्युलेटिंग एक्ट पारित किया गया था, परन्तु उस एक्ट में कई सारी खामियां थी अतः

“Read More”